दाग देहलवी शायरी – उज़्र आने में भी है

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं
बाइस-ए-तर्क-ए मुलाक़ात बताते भी नहीं – दाग देहलवी