दाग देहलवी शायरी – खूब पर्दा है कि चिलमन

खूब पर्दा है कि चिलमन से लगे बैठे हैं साफ
छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं – दाग देहलवी