नक़्श लायलपुरी शायरी – ज़हर देता है कोई कोई

ज़हर देता है कोई, कोई दवा देता है।।
जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है।। – नक़्श लायलपुरी