परवीन शाकिर शायरी – दूर रह के भी सदा

दूर रह के भी सदा रहती हैं
मुझको थामे हुए बाँहें उसकी – परवीन शाकिर