परवीन शाकिर शायरी – मैं सच कहूँगी और फिर

मैं सच कहूँगी और फिर भी हार जाऊँगी,
वो झूठ बोलेगा और लाजवाब कर देगा – परवीन शाकिर