बशीर बद्र शायरी – महलों में हम ने कितने

महलों में हम ने कितने सितारे सजा दिए
लेकिन ज़मीं से चाँद बहुत दूर हो गया – बशीर बद्र