मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – कब वो सुनता है कहानी

कब वो सुनता है कहानी मेरी
और फिर वो भी ज़बानी मेरी – मिर्ज़ा ग़ालिब