मुनव्वर राना शायरी – आप दरिया हैं तो फिर

आप दरिया हैं तो फिर इस वक्त हम खतरे में हैं…
आप कश्ती हैं तो हमको पार होना चाहिये… – मुनव्वर राना