मुनव्वर राना शायरी – इस तरह मेरे गुनाहों को

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है,
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है! – मुनव्वर राना