मुनव्वर राना शायरी – हम बहुत खुश हैं उसे

हम बहुत खुश हैं उसे दे के इबादत का फ़रेब
वो मगर ख़ूब समझता है ख़ुदा है वह भी – मुनव्वर राना