मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – करने गए थे उस से

करने गए थे उस से तग़ाफ़ुल का हम गिला
की एक ही निगाह कि बस ख़ाक हो गए – मिर्ज़ा ग़ालिब