मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – मैं और बज़्म-ए-मय से यूँ

मैं और बज़्म-ए-मय से यूँ तिश्ना-काम आऊँ
गर मैं ने की थी तौबा साक़ी को क्या हुआ था – मिर्ज़ा ग़ालिब