अहमद फ़राज़ शायरी – जैसे तुझे आते है

जैसे तुझे आते है, ना आने के बहाने..
ऐसे ही किसी रोज़ ना जाने के लिये आ…. – अहमद फ़राज़