अहमद फ़राज़ शायरी – जो भी बिछऱे हैं कब

जो भी बिछऱे हैं कब मिले हैं ‘फ़राज़’
फिर भी तू इंतज़ार कर शायद.. – अहमद फ़राज़