अहमद फ़राज़ शायरी – तेरी तलब में जला डाले

तेरी तलब में जला डाले आशियाने तक,
कहाँ रहूँ मैं तेरे दिल में घर बनाने तक। – अहमद फ़राज़