अहमद फ़राज़ शायरी – दोस्त बन कर भी नहीं

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला – अहमद फ़राज़