अहमद फ़राज़ शायरी – दो घड़ी उस से रहो

दो घड़ी उस से रहो दूर तो यूँ लगता है
जिस तरह साया-ए-दीवार से दीवार जुदा – अहमद फ़राज़