अहमद फ़राज़ शायरी – यही दिल था कि तरसता

यही दिल था कि तरसता था मरासिम* के लिए
अब यही तर्क-ए-तअल्लुक़ के बहाने माँगे – अहमद फ़राज़