अहमद फ़राज़ शायरी – सुना है रात उसे चाँद

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं – अहमद फ़राज़