अल्लामा इक़बाल शायरी – दिल से जो बात निकलती

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है – अल्लामा इक़बाल