अल्लामा इक़बाल शायरी – हाँ दिखा दे ऐ तसव्वुर

हाँ दिखा दे ऐ तसव्वुर फिर वो सुब्ह ओ शाम तू
दौड़ पीछे की तरफ़ ऐ गर्दिश-ए-अय्याम तू – अल्लामा इक़बाल