बशीर बद्र शायरी – अगर तलाश करूँ कोई मिल

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा – बशीर बद्र