बशीर बद्र शायरी – अजीब रात थी कल तुम

अजीब रात थी कल तुम भी आ के लौट गए
जब आ गए थे तो पल भर ठहर गए होते – बशीर बद्र