बशीर बद्र शायरी – आँखों में रहा दिल में

आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा,
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा! – बशीर बद्र