बशीर बद्र शायरी – उड़ने दो परिंदों को अभी

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते – बशीर बद्र