बशीर बद्र शायरी – उस के दुश्मन हैं बहुत

उस के दुश्मन हैं बहुत, आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा. – बशीर बद्र