बशीर बद्र शायरी – एक मैं एक तुम एक

एक मैं एक तुम एक दीवार थी
ज़िन्दगी आधी आधी बटी रह गयी – बशीर बद्र