बशीर बद्र शायरी – कभी-कभी तो छलक पड़ती हैं

कभी-कभी तो छलक पड़ती हैं यूँही आँखें,
उदास होने का कोई सबब नहीं होता – बशीर बद्र