बशीर बद्र शायरी – गले में उस के ख़ुदा

गले में उस के ख़ुदा की अजीब बरकत है
वो बोलता है तो इक रौशनी सी होती है – बशीर बद्र