बशीर बद्र शायरी – गुफ़्तुगू उन से रोज़ होती

गुफ़्तुगू उन से रोज़ होती है
मुद्दतों सामना नहीं होता – बशीर बद्र