बशीर बद्र शायरी – तुम राह में चुप चाप

तुम राह में चुप चाप खड़े हो तो गए हो
किस किस को बताओगे, घर क्यों नहीं जाते – बशीर बद्र