बशीर बद्र शायरी – न जाने कब तिरे दिल

न जाने कब तिरे दिल पर नई सी दस्तक हो,
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आएगा! – बशीर बद्र