बशीर बद्र शायरी – फिर उसके बाद अभी तक

फिर उसके बाद अभी तक मुझे ज़मीं न मिली
ज़रा सी उम्र थी जब तन्हा पहली बार उड़ा – बशीर बद्र