बशीर बद्र शायरी – मुझसे बिछड़ के खुश रहते

मुझसे बिछड़ के खुश रहते हो
मेरी तरह तुम भी झूठे हो – बशीर बद्र