बशीर बद्र शायरी – मैंने दरिया से सीखी है

मैंने दरिया से सीखी है पानी की पर्दादारी
ऊपर-ऊपर हंसते रहना गहराई में रो लेना – बशीर बद्र