बशीर बद्र शायरी – मैं अपनी राह में दीवार

मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ
अगर वो आया तो किस रास्ते से आएगा! – बशीर बद्र