बशीर बद्र शायरी – लोग टूट जाते हैं एक

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में – बशीर बद्र