बशीर बद्र शायरी – सात संदूक़ों में भर कर

सात संदूक़ों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें
आज इंसाँ को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत – बशीर बद्र