बशीर बद्र शायरी – हक़ीक़तों में ज़माना बहुत गुज़ार

हक़ीक़तों में ज़माना बहुत गुज़ार चुके
कोई कहानी सुनाओ बड़ा अँधेरा है – बशीर बद्र