फैज अहमद फैज शायरी – और भी गम हैं ज़माने

और भी गम हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा – फैज अहमद फैज