हसरत मोहानी शायरी – इक बार दिखाकर चले जाओ

इक बार दिखाकर चले जाओ झलक अपनी,
हम जल्वा-ए-पैहम के तलबगार कहाँ है। – हसरत मोहानी