हसरत मोहानी शायरी – कहीं आके मिटा न दें

कहीं आके मिटा न दें इन्तिजार का लुत्फ
कहीं कुबूल न हो जाये इल्तिजा मेरी। – हसरत मोहानी