हसरत मोहानी शायरी – जी में आता है के

जी में आता है के उस शौक़-ए-तग़ाफ़ुल केश से
अब ना मिलिये फिर कभी और बेवफ़ा हो जाइये – हसरत मोहानी