हसरत मोहानी शायरी – नादिम हूँ जान देकर आँखों

नादिम हूँ जान देकर, आँखों को तूने ज़ालिम
रो-रो के बाद मेरे क्यों लाल कर लिया है – हसरत मोहानी