हसरत मोहानी शायरी – बाम पर आने लगे वो

बाम पर आने लगे वो सामना होने लगा
अब तो इज़हार-ए-मोहब्बत बरमला होने लगा – हसरत मोहानी