हसरत मोहानी शायरी – वस्ल की बनती हैं इन

वस्ल की बनती हैं इन बातों से तदबीरें कहीं
आरज़ूओं से फिरा करती हैं तक़दीरें कहीं – हसरत मोहानी