इरफ़ान सिद्दीक़ी शायरी – आज कल अपना सफर तय

आज कल अपना सफर तय नहीं करता कोई
हाँ सफर का सर-ओ-सामान बहुत करता है – इरफ़ान सिद्दीक़ी