जिगर मुरादाबादी शायरी – कीजिए और कोई जुल्म अगर

कीजिए और कोई जुल्म अगर जिद है यही
लीजिए और मेरे लब पै दुआएं आईं – जिगर मुरादाबादी