जिगर मुरादाबादी शायरी – दिल गया रौनके-हयात गई

दिल गया, रौनके-हयात गई,
गम गया, सारी कायनात गई। – जिगर मुरादाबादी