जिगर मुरादाबादी शायरी – भूल जाता हूँ मैं सितम

भूल जाता हूँ मैं सितम उस के
वो कुछ इस सादगी से मिलता है – जिगर मुरादाबादी